कहते हैं कि जब वक्त बुरा होता है तो इंसान के दिल में अच्छा करने की बातें उमड़ती हैं, लेकिन जब वक्त अच्छा होता है तो वह सबकुछ भूल जाता है। ऐसा अक्सर देखने में भी आता है। लेकिन बॉलीवुड के ‘शहंशाह’ अमिताभ बच्च्न की बात करें तो आज भी अपने बुरे वक्त को नहीं भूले हैं। वे अब ऐसे लोगों की मदद करने में आगे रहते हैं जो वक्त के मारे हैं।

अमिताभ ने अपने एक पुराने वादे को पूरा किया

हाल ही में अमिताभ ने अपने एक पुराने वादे को पूरा किया है। एक बार एक टीवी चैनल के प्रोग्राम में उन्होंने वादा किया था कि वो कचरा साफ करने वाले कर्मचारियों को 50 मशीनें देंगे। अमिताभ ने अब ये वादा पूरा कर दिया है। उन्होंने इसकी जानकारी देते हुए बताया,’आज मैंने अपना वादा निभा दिया है। 25 छोटी मशीनें और एक बड़ा ट्रक मैंने बीएमसी को दी हैं।

इससे पहले अमिताभ बच्चन ने 1398 किसानों के कर्ज का भुगतान किया था

इससे पहले अमिताभ बच्चन ने 1398 किसानों के कर्ज का भुगतान किया था। ये राशि करीब 4 करोड़ रुपए है। उन्होंने किसानों से कहा कि वे कर्ज चुकाने के सर्टिफिकेट को उनसे प्राप्त कर सकते हैं। चूंकि इतने सारे किसानों का मुंबई आना संभव नहीं था इसलिए उन्होंने 70 किसानों के लिए ट्रेन की एक पूरी बोगी बुक करवाई। मुंबई में इन किसानों को सर्टिफिकेट दिए गए।

अमिताभ ने अपने जीवन के मुश्किल दौर का किया था खुलासा

टीवी सीरियल ‘कौन बनेगा करोड़पति 10’ के मंच पर अमिताभ बच्चन ने अपनी जिंदगी के बड़े राज का खुलासा किया था। जिसे सुनकर फैंस भावुक हो गए। इस बात से सभी परिचित हैं कि अमिताभ बच्चन के कॅरियर का शुरुआती दौर काफी मुश्किल भरा रहा। उन्हें कई बार फिल्मों में काम देने से रिजेक्ट कर दिया जा चुका था। अपने इन्हीं दिनों को याद करते हुए अमिताभ ने केबीसी 10 के मंच से एक बड़ा खुलासा किया था।

अमिताभ के पास खाने के नहीं होते थे पैसे

आपको बता दें कि अमिताभ ने अपने उन दिनों की याद को भी फैंस के साथ साझा किया जब उनके पास खाने के पैसे नहीं होते थे। ये बात उन दिनों की है जब वे नौकरी किया करते थे। मेहनताने के रूप में उन्हें 500 रुपए मिलते थे। इनमें से 300 रुपए किराए के देने होते थे। बाकी बचे 200 रुपए में उन्हें पूरा महीना चलाना होता था।

पानी और बताशा खाकर पालना पड़ा पेट

पैसों की कमी के चलते कई बार उनको पानी और बताशा खाकर पेट पालना पड़ा। हालांकि अमिताभ कहते हैं कि ये पानी-बताशा वाकई स्वादिष्ट होते थे।

Source